उत्तर प्रदेश की सड़कों की आलोचना करता वीडियो राजस्थान का है

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.
    

सोशल मीडिया पर एक वीडियो इस दावे के साथ वायरल हो रहा है कि ये उत्तर प्रदेश में पुलिस कर्मियों को ले जा रहे इ-रिकशा की किसी टूटे, पानी भरे रास्ते पर पलटने की है. यह दावा ग़लत संधर्भ के साथ शेयर किया जा रहा है: पुलिस कर्मियों को ले जा रहा एक इ-रिकशा पलटा तो सही लेकिन वीडियो उत्तर प्रदेश का नहीं, राजस्थान का है. 

23 सेकेंड के इस वीडियो को यहां 2 अक्टूबर 2021 को फ़ेसबुक पर शेयर किया गया था.

वायरल पोस्ट उत्तर प्रदेश में बाढ़ के बाद सड़कों की ख़राब स्थिति की आलोचना करती है.

पोस्ट को इस कैप्शन के साथ शेयर किया जा रहा है, "यूपी पुलिस उन सड़कों पर स्टंट कर रही है, जिनका उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी द्वारा विकास किया गया है.”

19 अक्टूबर, 2021 को लिया गया भ्रामक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

ट्विटर पर एक और यूज़र ने इस वीडियो को शेयर कर कैप्शन लिखा, “उत्तर प्रदेश में विकास की गंगा के बीच पुलिस की गाड़ी पलट गई. देखो देश के सबसे स्मार्ट राज उत्तर प्रदेश का हाल.”

इसी तरह के दावे के साथ वीडियो को यहां, यहां और यहां फ़ेसबुक पर हजारों बार देखा जा चुका है. वीडियो को यहां और यहां ट्विटर पर भी इसी दावे के साथ शेयर किया गया है.

हालांकि, ये वीडियो को गलत संदर्भ में शेयर किया गया है.

वायरल वीडियो से संबंधित कीवर्ड सर्च करने के बाद रिवर्स इमेज सर्च में पाया गया कि ये वीडियो 3 अक्टूबर, 2021 को उत्तर प्रदेश पुलिस की फैक्ट-चेकिंग टीम द्वारा ट्विटर पर पोस्ट किया गया था.

ट्वीट के कैप्शन में लिखा गया है: "यह वायरल वीडियो राजस्थान के दौसा जिले का है, उत्तर प्रदेश का नहीं. कृपया बिना सत्यापन के भ्रामक सामग्री पोस्ट करके अफवाहें न फैलाएं."

ट्वीट में  दैनिक भास्कर की एक समाचार रिपोर्ट का लिंक भी शेयर किया गया, जिसमें राजस्थान के दौसा जिले की घटना के बारे में बताया गया है.

रिपोर्ट के मुताबिक़ भारी बारिश के बाद सड़कों पर पानी भर गया था जिससे पुलिस अधिकारियों को ले जा रहा रिक्शा अचानक पलट गया.

वीडियो को स्थानीय समाचार आउटलेट, नवभारत टाइम्स ने भी 2 अक्टूबर, 2021 को अपने यूट्यूब पेज पर पोस्ट किया था. पोस्ट में कहा गया है कि यह घटना राजस्थान के दौसा जिले की है.

भ्रामक पोस्ट (बाएं) और यूट्यूब वीडियो (दाएं) में वीडियो के स्क्रीनशॉट की एक तुलना नीचे दी गई है:

भ्रामक पोस्ट (बाएं) और नवभारत टाइम्स की यूट्यूब वीडियो (दाएं) के वीडियो के स्क्रीनशॉट की एक तुलना