असम में हिंदुओं का प्रदर्शन नही, ये तस्वीर मोदी की 2019 रैली से है

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.
 

सोशल मीडिया पर बांग्लादेश में दुर्गा पूजा के दौरान अल्पसंख्यक हिंदुओं के साथ हुई हिंसा से जोड़ एक तस्वीर इस दावे के साथ शेयर वायरल है कि भारत के असम में इन घटनाओ के खिलाफ एक विशाल रैली का आयोजन हुआ. ये दावा भ्रामक है: असम के बराक वैली में विरोध सभा तो हुई लेकिन शेयर की जा रही तस्वीर प्रधानमंत्री मोदी की 2019 में आयोजित कर्णाटक के मेंगलुरु रैली की है. 

वायरल तस्वीर को 23 अक्टूबर 2021 को ट्विटर पर यहां शेयर किया गया है. इसी पोस्ट को फेसबुक पर बंगाली भाषा के कैप्शन के साथ यहां शेयर किया गया. 

हिंदी और बंगाली पोस्ट्स में कैप्शन लिखा है, "वर्तमान स्थिति- असम बांग्लादेश सीमा पर तनाव! बांग्लादेश में जारी हिंदू नरसंहार के विरोध में बराक से लेकर गुवाहाटी असम तक हर तबके के हिंदू जाग गए हैं! भारत-बांग्लादेश सीमा और सीमा से लगे मुस्लिम बहुल इलाकों में अलर्ट से बचने के लिए रेड अलर्ट जारी! जय श्री राम #SaveBangladeshiHindus."

भ्रामक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

अक्टूबर में बांग्लादेश में दुर्गा पूजा के दौरान कई इलाक़ों में हिंदू अल्पसंख्यकों के साथ हिंसा की खबरें आई थीं. वायरल तस्वीर इसी संदर्भ के साथ शेयर की जा रही है. ज्ञात हो कि असम के बराक वैली में बांग्लादेश के हिन्दुओं पर हिंसा के खिलाफ विरोध प्रदर्शन भी हुआ था और वायरल तस्वीर को इसी प्रदर्शन से जोड़ कर शेयर किया जा रहा है.

फ़ेसबुक पर इस तस्वीर को यहां इसी दावे के साथ शेयर किया गया है.

हालांकि ये दावा ग़लत है.

तस्वीर का रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमने पाया कि ये 14 अप्रैल 2019 को यहां एक ट्विटर पोस्ट में शेयर की गई थी. 

फ़ोटो को शेयर कर कैप्शन लिखा था, “मंगलुरू में ग़ज़ब की भीड़. मोदी जी की इस विशाल रैली  में कम से कम 6 लाख लोग आये होंगे. कर्नाटक के तटीय क्षेत्रों के सभी भाजपा उम्मीदवारों की बड़ी जीत पक्की है.”

भ्रामक पोस्ट (बाएं) और 2019 में शेयर की गई तस्वीर (दाएं) की तुलना

वायरल तस्वीर साहिल ऑनलाइन टीवी नाम के यूट्यूब चैनल के एक लाइव स्ट्रीम वीडियो से एकदम मिलती जुलती है. ये वीडियो यहां 13 अप्रैल 2019 को पोस्ट किया गया है.

यूट्यूब वीडियो के कैप्शन में लिखा है, “भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कर्नाटक के मंगलुरू में एक रैली को संबोधित करते हुए.”

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट में में रैली के इस मैदान का नाम दिया गया है. रिपोर्ट के मुताबिक़ ये मंगलुरू का नेहरू स्पोर्ट्स ग्राउंड है.

गूगल स्ट्रीट व्यू में नेहरू स्पोर्ट्स ग्राउंड का नजारा साफ़ दिखता है. वायरल तस्वीर के कई सारे दृश्य इसमें साफ़ देखे जा सकते हैं. इससे ये साफ़ पता चलता है कि ये तस्वीर असम की नहीं है.

Screenshot comparison showing corresponding features of photo in misleading posts (left) and Google Street View of Nehru Maidan (right)