साउथ कोरिया के हवाई अड्डे की तस्वीर नोएडा एयरपोर्ट की बताकर शेयर

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.

सोशल मीडिया पर एक एयरपोर्ट टर्मिनल की तस्वीर कई बार शेयर कर उसे नए बन रहे नॉएडा अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट का बताया जा रहा है. लेकिन तस्वीर को भ्रामक संदर्भ में शेयर किया गया है; इसे पहले उन कंपनियों की वेबसाइटों पर प्रकाशित किया गया था जिन्होंने दक्षिण कोरिया में इंचियोन हवाई अड्डे का विस्तारित टर्मिनल तैयार किया था.

भाजपा नेता मोहित बेनीवाल ने ये तस्वीर फ़ेसबुक पर 25 नवंबर, 2021 को यहां शेयर की.

ये तस्वीर एक पोस्टर का हिस्सा है जिसपर लिखा है, "नोएडा जेवर एयरपोर्ट के शिलान्यास के अवसर पर विश्व के सबसे शक्तिशाली नेता, देश के लोकप्रिय एवं यशश्वी माननीय प्रधानमंत्री आदरणीय श्री नरेंद्र मोदी जी का पश्चिम उ.प. में आगमन पर हार्दिक स्वागत एवं अभिनन्दन." 

भ्रामक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

बता दें कि मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ 25 नवंबर को प्रधानमंत्री मोदी ने नोएडा स्थित जेवर एयरपोर्ट की आधारशिला रखी थी.

वायरल तस्वीर बिल्कुल इसी दावे के साथ फ़ेसबुक पर यहां, यहां और यहा; साथ ही ट्विटर पर यहां और यहां शेयर की गई है.

कई मीडिया संस्थानों ने भी इस तस्वीर को अपनी ख़बरों में नोएडा एयरपोर्ट बताकर शेयर किया, इन्हें यहां, यहां, यहां और यहां देखें.

लेकिन कम से कम 2013 के बाद से कई रिपोर्ट्स बताती हैं कि ये तस्वीर इंचियोन हवाई अड्डे के लिए एक नए टर्मिनल के मॉडल तस्वीर की है जो दक्षिण कोरियाई राजधानी सियोल में स्थित है.

तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें ये बिज़नेस और तकनीकी की एक वेबसाइट फ़ास्ट कंपनी में 16 अक्टूबर 2013 के इस आर्टिकल में प्रकाशित मिली.

तस्वीर के साथ कैप्शन में लिखा है: “आप दुनिया के सबसे अच्छे हवाई अड्डे पर कैसे सुधार करते हैं? यह सवाल डिजाइन फर्म जेन्सलर के सामने था, जिसने एचएमजीवाई कंसोर्टियम के साथ मिलकर इंचियोन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के टर्मिनल 2-एक हवाई अड्डे के भीतर एक छोटा शहर बनाया जिसमें तालाब से लेकर पूरे जिले तक सब कुछ शामिल था.”

फ़ास्ट कंपनी की वेबसाइट का स्क्रीनशॉट

कीवर्ड सर्च करने पर ये तस्वीर एक ग्लोबल आर्किटेक्चर कंपनी जेंसलर की वेबसाइट पर भी अपलोड की गई मिली.

और बिल्कुल ऐसी ही तस्वीरों को व्यक्तिगत रूप से हीरिम, मोयॉन्ग और यंगडो की वेबसाइटों पर पोस्ट किया गया था. ये वे कंपनियां हैं जिन्होंने जेन्सलर के साथ HMGY कंसोर्टियम के तहत इंचियोन टर्मिनल 2 के निर्माण में काम किया था.

इस टर्मिनल ने साल 2018 से परिचालन शुरू किया.

इंचियोन टर्मिनल 2 का एरियल गूगल अर्थ व्यू देखने पर ये भ्रामक दावे से वायरल तस्वीर से बिल्कुल मिलता जुलता है. ये नीचे दोनों के स्क्रीनशॉट की तुलना में भी देख सकते हैं.

नोएडा एयरपोर्ट की वेबसाइट में काफ़ी खोजने पर भी वायरल तस्वीर कहीं नहीं मिली.

AFP ने पहले इसी तरह के भ्रामक पोस्ट का फै़क्ट-चेक किया है, जो बीजिंग दाशिंग हवाई अड्डे को नोएडा का बताकर शेयर किया जा रहा था.