क्वीन एलिज़ाबेथ II के अंतिम संस्कार में संस्कृत श्लोक बोले गए?

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.

सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि यूके की महारानी एलिज़ाबेथ द्वितीय के अंतिम संस्कार में हिन्दू रीती के हिसाब से श्लोक पढ़े गए हैं. ये दावा फ़र्ज़ी है: वायरल वीडियो असल में 2009 का है जब 2010 के 19वें राष्ट्रमंडल खेलों के लिए लंदन के बकिंघम पैलेस में क्वींस बैटन रीले का लोकार्पण किया जा रहा था. इस मौके पर स्कूल के विद्यार्थी स्टेज पर श्लोक पढ़ रहे थे.

ट्विटर पर दो मिनट का ये वीडियो 11 सितम्बर, 2022 को यहां शेयर किया गया.

वीडियो में विद्यार्थियों का एक समूह स्टेज पर गा रहा है. बैकग्राउंड में एक वक्ता बता रहा है कि ये विद्यार्थी लंदन के हैमरस्मिथ स्कूल से हैं.

वक्ता कह रहा है, “ये कई राष्ट्रीयता को दर्शाते हैं और अब एक काव्यात्मक, गद्य श्लोक सुनाने जा रहे हैं.”

पोस्ट के कैप्शन में लिखा गया, “यह देखिए इंग्लैंड की महारानी की मृत्यु के बाद भारतीय सनातन का शांति पाठ किया जा रहा है और हम पाश्चात्य सभ्यता में आकर श्राद्ध का और शांति पाठ का उपहास उड़ाते हैं। हमको अपनी संस्कृति का अपमान करते हुए तनिक भी लज्जा नहीं आती.”

भ्रामक पोस्ट का 18 सितम्बर, 2022 को लिया गया स्क्रीनशॉट

ये दावा ब्रिटिश इतिहास में सबसे लम्बे समय तक राज करने वाली महारानी एलिज़ाबेथ द्वितीय की हालिया हुई मौत के बाद शेयर किया गया है. महारानी की मौत 8 सितम्बर को स्कॉटिश हाइलैंड में 96 वर्ष की उम्र में हुई.

वीडियो फ़ेसबुक और ट्विटर पर और भी लोगों ने शेयर किया है.

हालांकि ये दावा गलत है.

पुराना वीडियो

वीडियो के ऊपर "www.wildfilmsindia.com" का वॉटरमार्क है जो दिल्ली स्थित वाइल्डरनेस फ़िल्म्स इंडिया की वेबसाइट है. ये वीडियो स्टॉक और वीडियो प्रॉडक्शन की कंपनी है.

वीडियो में आगे एक सफ़ेद पट्टी पर टेक्स्ट लिखा नज़र आ रहा है-- "DELHI 2010" और "The St James School Choir".

गूगल पर कीवर्ड सर्च करने पर हमें ओरिजिनल वीडियो वाइल्डरनेस फ़िल्म्स इंडिया के आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर यहां मिला जिसे 22 मई, 2019 को पोस्ट किया गया था.

इस वीडियो के अंग्रेज़ी टाइटल का हिंदी अनुवाद है, “बकिंघम पैलेस में सेंट जेम्स स्कूल क्वायर श्लोक गाते हुए.”

डिस्क्रिप्शन में बताया गया है, “बकिंघम पैलेस में सेंट जेम्स स्कूल क्वायर कॉमनवेल्थ खेलों के क्वीन बैटन 2010 ("CWG Queen Baton 2010") के दौरान श्लोक गाते हुए.”

नीचे भ्रामक पोस्ट के वीडियो (बाएं) और वाइल्डरनेस फ़िल्म्स इंडिया के वीडियो के स्क्रीनशॉट (दाएं) की तुलना है:

भ्रामक पोस्ट के वीडियो (बाएं) और वाइल्डरनेस फ़िल्म्स इंडिया के वीडियो के स्क्रीनशॉट (दाएं) की तुलना

क्वीन रीले का लोकार्पण

यहां "CWG Queen Baton 2010" दिल्ली में 2010 में हुए 19वें राष्ट्रमंडल खेलों के क्वींस बैटन रीले को कहा जा रहा है.

रीले की शुरुआत राजा या रानी द्वारा बैटन पर लिखे सन्देश को बकिंघम पैलेस में सौंपें जाने से होती है जिसे सभी कॉमनवेअथ राष्ट्रों में घूमाते हुए मेज़बान देश तक लाया जाता है.

2010 के राष्ट्रमंडल खेलों का रीले बकिंघम पैलेस में 29 अक्टूबर, 2009 को शुरू किया गया था.

कीवर्ड सर्च करने पर हमें इस मौके के अलग-अलग एंगल से दो वीडियो मिले जिनमें से एक 25 नवंबर, 2009 में आयोजकों के फ़ेसबुक पेज पर अपलोड किया गया था और दूसरा ABC न्यूज़ ऑस्ट्रेलिया द्वारा 30 अक्टूबर, 2009 को उनके यूट्यूब चैनल पर.

वीडियो देखकर पता चलता है कि श्लोक रीले के लोकार्पण पर पढ़े गए थे.

नीचे भ्रामक पोस्ट के वीडियो (बाएं) और आयोजकों के फ़ेसबुक पेज के वीडियो के स्क्रीनशॉट (दाएं) की तुलना है:

भ्रामक पोस्ट के वीडियो (बाएं) और आयोजकों के फ़ेसबुक पेज के वीडियो के स्क्रीनशॉट (दाएं) की तुलना

AFP ने महारानी की मौत से जुड़े अन्य भ्रामक दावों का भी यहां, यहां और यहां फ़ैक्ट-चेक किया है.