भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( AFP / DIPTENDU DUTTA)

भारतीय प्रधानमंत्री मोदी द्वारा रैली में दिए गए भाषण को ग़लत तरके से शेयर किया

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.

फ़ेसबुक पर एक वीडियो वायरल है जिसे हज़ारों बार देखा गया है. दावा किया गया है कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक रैली में खुद को "चोर" बुला रहे हैं. ये पोस्ट भ्रामक है: पूरे भाषण में मोदी एक चोर की कहानी सुना रहे थे. वह अपने बारे में बात नहीं कर रहे थे।

वीडियो को यहां फ़ेसबुक पर 3 मई, 2021 को इस अकाउंट ने पोस्ट किया था जिसके लगभग 2 लाख फॉलोअर्स हैं. ये वीडियो 50,000 से ज्यादा बार देखा जा चुका है.

10 सेकंड के इस क्लिप में मोदी को एक रैली में भीड़ को संबोधित करते हुए देखा जा सकता है.

वो हिंदी में कहते सुनाई देते हैं, "जब मैं छोटी चोरी करता था, उस दिन अगर मेरी माँ ने मुझे रोका होता तो में इतना बड़ा लूटेरा न बनता."

यही बात कैप्शन में लिखी गई है.

जून 29, 2021 को लिया गया भ्रामक पोस्ट का स्क्रीनशॉट ( AFP / )

वीडियो को इसी तरह के दावे के साथ यहां, यहां, यहां और यहां फ़ेसबुक पर पोस्ट किया गया है.

यह सारे पोस्ट भ्रामक हैं: मोदी के भाषण का एक लंबा वीडियो दिखाता है कि वह वास्तव में एक चोर की कहानी सुना रहे थे, खुद को चोर नहीं कह रहे थे.

यह 10 सेकंड की क्लिप 10 अप्रैल, 2021 को पश्चिम बंगाल राज्य में चुनाव के दौरान मोदी द्वारा दिए गए एक भाषण वीडियो से ली गई थी.

इस  57 मिनट 17 सेकेंड वाले वीडियो को मोदी के आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर डाला गया था.

पूरे भाषण में मोदी को एक चोर की कहानी बताते हुए सुना जा सकता है.

वो वीडियो के 39 मिनट 40 सेकंड पर कहते हैं, "हम छोटे थे तोह एक कथा सुनी थी. उस कथा में एक बहुत बड़ा डाकू, लूटेरा, उसको फांसी की सजा हुई. जब फांसी की सजा हुई तो उसको पूछा तुम्हारी अंतिम इच्छा क्या है? तो उसने कहा मुझे मेरी मां से मिलना है. तो फिर सरकार ने व्यवस्था की कि फांसी पर जाने से पहले उसको उसकी मां से मिलवा दिया जाये. जब वह अपनी मां को मिला, तो मां को झपट कर के उसने मां की नाक को काट लिया. अपनी मां की नाक को काट लिया! फांसी पे जाने से पहले काट लिया! तोह लोगों ने पूछा, "भाई तुमने अपनी मां पर यह क्यों किया? जब मैं छोटी चोरी करता था, उस दिन अगर मेरी मां ने मुझे रोका होता तो में इतना बड़ा लूटेरा न बनता."

मोदी ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उनकी पार्टी अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाने के बाद यह कहानी सुनाई थी.

इस ख़बर को भारतीय मीडिया साइट्स एबीपी न्यूज़ और द हिंदू बिज़नेसलाइन ने रिपोर्ट किया था.

भ्रामक पोस्ट (बाएं) के वीडियो और मोदी के आधिकारिक यूट्यूब अकाउंट (दाएं) पर डाले गए वीडियो की तुलना नीचे की गयी है:

AFP ने इससे पहले भारतीय विपक्षी नेता राहुल गांधी के भाषण को ग़लत तरीके से पेश करने वाले पोस्ट की पड़ताल की थी.