मीराबाई चानू के ओलिंपिक मेडल जीतने पर मोदी को धन्यवाद देता हुआ बैनर फ़र्ज़ी है

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.

कई फ़ेसबुक और ट्विटर यूज़र्स ने एक बैनर की तस्वीर शेयर की जिसमें मोदी को भारतीय ओलिंपियन मीराबाई चानू की जीत पर धन्यवाद दिया गया था. चानू ने टोक्यो ओलिंपिक में वेटलिफ़्टिंग में रजत पदक जीता था. ये तस्वीर फ़र्ज़ी है जिसमे बैनर को मॉर्फ़ किया गया है: असल तस्वीर में मोदी का धन्यवाद नहीं किया गया.

30 जुलाई को एक फ़ेसबुक पोस्ट में तस्वीर के साथ लिखा गया, "गज़ब है, पीछे की फ़ोटो देखिए और जो लिखा है एक बार पढ़िए." इसे एक ग्रुप में शेयर किया गया जिसके 60,000 से ज़्यादा सदस्य हैं.

आगे लिखा है, "मेडल मीराबाई चानू मेहनत कर के लाई है, या मोदी जी ने दिलाया है? ऐसा है तो मोदी जी पूरे टीम को मेडल दिला दें."

तस्वीर में साइखोम मीराबाई चानू प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर वाले एक बैनर के सामने बैठी हैं जिसपर लिखा है, "टोक्यो ओलिंपिक रजत पदक विजेता साइखोम मीराबाई चानू का अभिनन्दन समारोह. धन्यवाद मोदी जी, मीराबाई चानू को मेडल दिलाने के लिए."

12 अगस्त, 2021 को भ्रामक पोस्ट का लिया गया स्क्रीनशॉट

चानू ने वेटलिफ़्टिंग में 49 किलोवर्ग में टोक्यो ओलिंपिक के पहले दिन ही रजत पदक हासिल किया था.

बैनर की ये तस्वीर फ़ेसबुक पर यहां, यहां और यहां; और ट्विटर पर यहां और यहां शेयर की गयी.

लेकिन ये तस्वीर एडिट की गयी है.

टिनआय पर इसका रिवर्स इमेज सर्च करने पर युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय का ये प्रेस रिलीज़ मिला जिसमें असल तस्वीर है.

इस असल तस्वीर में बैनर पर मोदी को धन्यवाद करने वाली बात कहीं नहीं लिखी है.

बैनर पर हिंदी और अंग्रेज़ी में यही लिखा है, "टोक्यो ओलिंपिक रजत पदक विजेता साइखोम मीराबाई चानू का अभिनन्दन समारोह, 26 जुलाई, 2021."

प्रेस रिलीज़ में छपी असल तस्वीर का 12 अगस्त, 2021 को लिया गया स्क्रीनशॉट

प्रेस इंफ़ॉर्मेशन ब्यूरो (PIB) ने कार्यक्रम की और भी तस्वीरें ट्विटर पर शेयर की जिनमें बैनर नज़र आ रहा है.

बैनर वाली ऐसी ही तस्वीरें न्यूज़ रिपोर्ट्स में भी यहां और यहां देखी जा सकती हैं.

नीचे फ़ेसबुक पर भ्रामक पोस्ट में दिख रही तस्वीर और प्रेस रिलीज़ की ओरिजिनल तस्वीर की तुलना में देख सकते हैं.

भ्रामक फ़ेसबुक पोस्ट और असल तस्वीर के बीच तुलना
टोक्यो ओलंपिक्स