यह वीडियो रेमंड के मालिक रहे विजयपत सिंघानिया का नहीं, पाकिस्तान का है

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.

सोशल मीडिया पर एक वीडियो हज़ारों बार देखा जा चुका है जिसमें एक बुज़ुर्ग दंपति साथ में एक हिंदी गाना गा रहे हैं. लोगों के मुताबिक यह भारतीय उद्योगपति और रेमंड के पूर्व अध्यक्ष विजयपत संघानिया और उनकी पत्नी हैं. यह दावा ग़लत है: यह वीडियो एक पाकिस्तानी डॉक्युमेंट्री फ़िल्मकार माहेरा ओमर ने अपने रिश्तेदारों के साथ बनाया था. 

यह वीडियो 5 सितम्बर, 2021 को फ़ेसबुक पर यहां शेयर किया गया.

इसका कैप्शन है, “विजयपत सिंघानिया (पूर्व अध्यक्ष रेमंड) और उनकी पत्नी, अपने बेटे द्वारा, स्वनिर्मित साम्राज्य से बाहर निकालने के बाद, किसी होटल कक्ष में, संगीत के बिना ही,एक गाना गा रहे हैं और आनंद ले रहे हैं. देखिए कपल के बीच की केमिस्ट्री.”

“छोटी सी जिंदगी का मजा लें और इसे मीठा बनाएं... यह कभी भारत के सबसे अमीर कपल्स में से एक थे.....!! अब वो आमने-सामने की ज़िंदगी जीते हैं...! जीवन भर की सीख......! जिंदगी हर हाल में कितनी खूबसूरत है.”

भ्रामक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

रेमंड ग्रुप के पूर्व अध्यक्ष और उनके बेटे गौतम सिंघानिया कंपनी के मालिकाना हक़ को लेकर 2015 से ही अदालत में आमने-सामने हैं. 

यह वीडियो हिंदी और अंग्रेज़ी दोनों कैप्शन में फ़ेसबुक पर यहां, यहां, यहां और यहां; और ट्विटर पर यहां, यहां और यहां शेयर किया गया. ऐसे ही दावे 2017 से सोशल मीडिया पर वायरल हैं.

लेकिन यह दावा बिलकुल ग़लत है.

गूगल पर इसके बारे में कीवर्ड सर्च करने पर हमें 5 मार्च का एक यूट्यूब वीडियो मिला जिसे पाकिस्तान की डॉक्युमेंट्री फ़िल्मकार माहेरा ओमर ने अपलोड किया है.

वीडियो के विवरण में लिखा है, “करीब 8 साल पहले मेरे चाचा जमशेद ओमार और बुआ शमा हुसैन ने शाम को साथ में बहुत प्यारा गाना गया.”

“मूल गाना 1957 में हेमंत कुमार ने गाया था और निर्देशक गुरु दत्त थे, संगीत एस डी बर्मन ने दिया था. इसके बोल साहिर लुधियानवी के हैं. ”

नीचे भ्रामक पोस्ट में दिख रहे वीडियो (बाएं) और माहेरा द्वारा अपलोड किये गए वीडियो (दाएं) के स्क्रीनशॉट की तुलना देख सकते हैं:

भ्रामक पोस्ट और ओरिजिनल वीडियो के स्क्रीनशॉट की तुलना

AFP ने 20 सितम्बर, 2021 को माहेरा से संपर्क किया और उन्होंने स्पष्ट किया कि उन्हीं का वीडियो ग़लत दावे के साथ शेयर किया गया था.

उन्होंने कहा, “मैंने यह वीडियो करांची में अपने घर में बनाया था जब मेरे रिश्तेदार घर आये थें. दोनों आपस में भाई-बहन हैं, पति-पत्नी नहीं.”

उन्होंने आगे बताया, “मैंने यह वीडियो कुछ सालों पहले बनाया था और विमीयो पर अपलोड किया था. किसी ने विमीयो से लेकर वीडियो भारत के एक फ़ेसबुक पेज पर शेयर कर दिया. तभी से यह वायरल हो गया. यूट्यूब पर मैंने इसे हाल ही में अपलोड किया है क्योकि विमीयो पर प्रो सब्सक्रिप्शन बंद करने पर यह वीडियो वहां से हटा दिया गया था.”

वीमियो वीडियो, जिसे अब प्लेटफार्म से हटा दिया गया है, को उमर ने 2014 में ट्विटर पर साझा किया था. 

माहेरा ने यूट्यूब चैनल पर 'जमशेद ओमर के गाये पुराने उर्दू गाने' के नाम से बनाये प्लेलिस्ट में जमशेद और शमा हुसैन द्वारा गाये गए कई और गाने भी मौजूद हैं. उन्होंने यह भी बताया कि जमशेद ओमर का कुछ महीनो पहले निधन हो गया हैं.  

रेमंड के प्रवक्ता ने भी 21 सितम्बर को AFP को ई-मेल के ज़रिये दावों को ख़ारिज करते हुए साफ़ किया की वीडियो में सिंघानिया दंपत्ति नहीं हैं. 

उन्होंने कहा, “यह वीडियो पूरी तरह से भ्रामक है और निहित स्वार्थ के लिए फैलाया जा रहा है. हम इसका पूरी तरह से खंडन करते हैं क्योंकि वीडियो में दिखाए गए व्यक्ति रेमंड के पूर्व अध्यक्ष डॉ. विजयपत सिंघानिया या उनकी पत्नी नहीं हैं. इस वीडियो को झूठी पहचान बनाने के लिए प्रसारित किया जा रहा है”.

विजयपत सिंघानिया और उनकी पत्नी की तस्वीर गेटी इमेजेज़ पर यहां देख सकते हैं.