पंजाब के नए मुख्यमंत्री के धर्मान्तरण का झूठा दावा वायरल

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.
 

फे़ेसबुक पर हज़ारो बार देखा एक वीडियो इस दावे के साथ वायरल हो रहा है कि पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने ईसाई धर्म अपनाया है. ये दावा भ्रामक है: वीडियो चरणजीत सिंह चन्नी की नहीं है और उनके ईसाई धर्म अपनाने की कोई भी विश्वसनीय जानकारी भी नहीं है. 

ये वीडियो यहां 8 अक्टूबर, 2021 को ट्विटर पर शेयर किया गया था.

वीडियो में भीड़ के बीच पगड़ी पहना एक आदमी एक पुल पर चढ़ता है और फिर एक पादरी उसके साथ बपतिस्मा की प्रक्रिया करते हुए दिखाई देता है.

ट्विटर पोस्ट में लिखा है, "पंजाब का मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी है ?? देखो .” 

वही वीडियो यहां और यहां  फ़ेसबुक पर और यहां; और यहां ट्विटर पर बिल्कुल समान कैप्शन के साथ शेयर किया गया था.

हालांकि, ये दावा ग़लत है.

वायरल वीडियो में 29वें सेकंड के दौरान, पादरी को उस व्यक्ति का नाम सिमरनजीत सिंह के रूप में लेते हुए और उसे एक नए नाम सैमुअल के साथ बपतिस्मा देते हुए साफ़ साफ़ सुना जा सकता है.

वे कहते हैं, “मैं विश्वास करने वालों को बपतिस्मा देता हूं, मैं सिमरनजीत सिंह को पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा के नाम पर सैमुअल के रूप में बपतिस्मा देता हूं,"

द प्रिंट की एक रिपोर्ट के अनुसार, चरणजीत सिंह चन्नी दलित सिख समुदाय के सदस्य हैं.

सोशल मीडिया पर वायरल इस भ्रामक पोस्ट के संबंध में आधिकारिक पुष्टि के लिये AFP ने चरनजीत सिंह चन्नी से भी संपर्क किया है. अभी तक उनका कोई जवाब नहीं मिल सका है.

हालांकि, चन्नी के कथित रूप से ईसाई धर्म में बपतिस्मा के बारे में अभी तक कोई विश्वसनीय रिपोर्ट नहीं है.

नीचे वीडियो में दिख रहे व्यक्ति (बाएं) और 58 वर्षीय चन्नी (दाएं) की एक तुलना है जिसमें बायें खड़ा व्यक्ति चन्नी से उम्र में छोटा दिखायी पड़ता है.

तुलना के लिए भ्रामक वीडियो में दीखता व्यक्ति और पंजाब के मुख्यमंत्री की तस्वीर