चमराजेश्वर मंदिर की नहीं, ये तस्वीरें जापान के एक बुद्ध मंदिर की हैं

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.

फ़ेसबुक और ट्विटर पर देवी-देवताओं की मूर्तियों की कुछ तस्वीरों का एक सेट इस दावे के साथ शेयर किया जा रहा है कि वो कर्नाटक के चमराजेश्वर मंदिर की हैं. ये दावा ग़लत है: ये मूर्तियां जापान के ह्योगो में स्थित एक बुद्ध मंदिर की हैं.

वायरल तस्वीर को यहां ट्विटर पर 22 अक्टूबर, 2021, को शेयर किया गया था. 

ट्वीट के साथ कैप्शन में लिखा है: "वो हमारी विरासतों का मजाक उड़ा सकते हैं, लेकिन उसके आर्किटेक्चर को मैच नहीं कर सकते. सिर्फ मूर्तियों को मत देखिए, उनके कपड़ों की लहरों को भी देखिए, बारीकी को देखिए. कपड़े हवा से लहराते हुए मालूम होते हैं (चमराजेश्वर मंदिर, मैसूर)".

चमराजेश्वर मंदिर कर्नाटक के चमराजनगर में स्थित एक हिंदू मंदिर है.

भ्रामक दावे वाले पोस्ट का 10 नवंबर, 2021 को लिया गया स्क्रीनशॉट

बिल्कुल इन्हीं तस्वीरों का सेट साल 2020 से ही इसी दावे से साथ सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. फ़ेसबुक पर ये पोस्ट यहां और यहां; और ट्विटर पर यहां और यहां शेयर की गई है. 

हालाँकि ये दावा ग़लत है.

वायरल तस्वीरों में से एक का रिवर्स इमेज सर्च करने पर पाया कि बिल्कुल यही तस्वीर फ़्लिकर नाम की वेबसाइट पर पोस्ट की गई है. नेंबुत्सुशू संपोज़न मुरयोज़ुज़ी मंदिर नाम के एक अकाउंट से बुद्ध मंदिर की वो सभी तस्वीरें पोस्ट की गईं थीं जो भ्रामक दावे के साथ शेयर की जा रही हैं.

फ़्लिकर पर पोस्ट की गयी तस्वीर का स्क्रीनशॉट

बाक़ी की अन्य दो तस्वीरें यहां और यहां पोस्ट की गई थीं. 

नेंबुत्सुशू संपोज़न मुरयोज़ुज़ी मंदिर जापान के होग्यो में है. इसकी आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक़ ये बौद्ध मंदिर चीन, जापान और कोरिया की बौद्ध संस्कृति को एक साथ समेटे हुए है. 

द् रॉयल ग्रैंड ऑफ बुद्धिज्म इसका मुख्य मंदिर है.

मंदिर के यूट्यूब चैनल पर अपलोड एक वीडियो में बिल्कुल वही संरचना दिखाई देती है जो वायरल वीडियो में है.

मंदिर के एक प्रवक्ता ने AFP को बताया कि वायरल तस्वीरें नेंबुत्सुशू संपोज़न मुरयोज़ुज़ी मंदिर के रॉयल ग्रैंड हॉल ऑफ बुद्धिज्म के प्रांगण की ही हैं.