प्रधानमत्रीं मोदी को पोप फ़्रांसिस से मिलने टैक्सी में नहीं ले जाया गया, फ़र्ज़ी तस्वीर वायरल

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.

कई फ़ेसबुक और ट्विटर पोस्ट में दो तस्वीरों को शेयर किया गया जिसमें प्रधानमंत्री मोदी एक टैक्सी से उतरते हुए नज़र आ रहे हैं. तस्वीरों को शेयर कर दावा किया जा रहा है कि अक्टूबर 2021 में प्रधानमंत्री मोदी के वैटिकन सिटी दौरे के समय उन्हें पोप फ़्रांसिस से मिलने एक टैक्सी में ले जाया गया. ये दावा ग़लत है: ये तस्वीरें फ़र्ज़ी हैं और इनपर टैक्सी का बोर्ड एडिट कर लगाया गया है.

ये तस्वीरें ट्विटर पर 31 अक्टूबर, 2021 को यहां शेयर की गयीं. 

पोस्ट के कैप्शन में लिखा है, "विदेश दौरे में मोदी को लेने विदेशियों ने टैक्सी भेजी, क्या डंका बज रहा है, विश्वगूरू को #टैक्सी में घुमाया जा रहा है, जल्दी से इटालियन पिज़्ज़ा का बॉयकॉट करो भक्तों, हमारे साहब को टैक्सी में घुमा रहे इटालियन."

भ्रामक ट्वीट का स्क्रीनशॉट

प्रधानमंत्री मोदी अक्टूबर के आख़िरी हफ़्ते में G-20 के समिट और वर्ल्ड लीडर्स समिट ऑफ़ COP26 में हिस्सा लेने के लिए इटली और यूके के दौरे पर थे. उन्होंने वैटिकन सिटी में पोप फ्रांसिस से भी मुलाक़ात की थी. इसी के बाद ये तस्वीरें शेयर की जाने लगीं. 

इस पोस्ट के नीचे कुछ लोगों के कॉमेंट से पता चलता है कि वो इसे सच मान बैठे.

एक यूज़र ने लिखा, "औकात अनुसार ट्रीटमेंट."

कमेंट का स्क्रीनशॉट

एक अन्य यूज़र ने लिखा, "बेशर्म लोग हैं दुनिया में बेइज्जती करा रहे हैं."

कमेंट का स्क्रीनशॉट

लेकिन असल तस्वीर के साथ छेड़छाड़ की गयी है. मोदी जिस कार से उतर रहे हैं उसपर टैक्सी का बोर्ड लगा दिया गया है.

इन तस्वीरों का रिवर्स इमेज सर्च करने पर न्यूज़ एजेंसी ANI के ट्वीट्स मिलते हैं जिनमें असल तस्वीर पोस्ट की गयी थी.

पहली तस्वीर ANI ने 31 अक्टूबर को यहां ट्वीट की थी. इसके साथ कैप्शन है, “प्रधानमंत्री पोप फ्रांसिस से मुलाक़ात कर वहां से रवाना होते हुए.”

इस तस्वीर में कार के ऊपर टैक्सी का पीले रंग का बोर्ड नहीं लगा है.

ANI द्वारा पोस्ट की गयी तस्वीर

दूसरी तस्वीर ANI ने उसी दिन यहां ट्वीट की थी. इसके कैप्शन में लिखा है, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पोप फ़्रांसिस से मिलने वैटिकन सिटी पहुंचे.”

इस तस्वीर में कार के पीछे टैक्सी का बोर्ड नहीं लगा हुआ है.

ANI द्वारा पोस्ट की गयी तस्वीर

नीचे फ़र्ज़ी तस्वीरों (बाएं) की ANI की असल तस्वीर (दाएं) से तुलना देखी जा सकती है:

फ़र्ज़ी तस्वीरों की असल तस्वीरों से तुलना

NDTV की यूट्यूब पर एक वीडियो रिपोर्ट में भी प्रधानमंत्री की पोप फ़्रांसिस से उनके निजी लाइब्रेरी में मुलाक़ात को कवर किया गया है. इस वीडियो में भी कार पर टैक्सी का कोई बोर्ड नहीं नज़र आता है.