ये तस्वीर इंडोनेशियाई रानी के धर्म प्रतिवर्तन की नहीं है

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.
  

फ़ेसबुक और ट्विटर पर एक तस्वीर हज़ारों बार इस दावे के साथ शेयर की गई है कि ये इंडोनेशिया के संस्थापक राष्ट्रपति सुकर्णो की बेटी सुकमावती सुकर्णोपुत्री को अपने 30 हज़ार समर्थकों के साथ इस्लाम छोड़कर हिंदू धर्म अपनाते हुए दिखाती है. ये दावा ग़लत है: इस तस्वीर में जावा की एक अन्य महिला हिन्दू धर्म अपना रही है. 

ये तस्वीर फ़ेसबुक पर यहां 27 अक्टूबर 2021 को शेयर की गई थी. इसे लगभग 4700 से भी ज़्यादा बार शेयर किया जा चुका है.

भ्रामक तस्वीर वाली पोस्ट का स्क्रीनशॉट

पोस्ट के साथ कैप्शन में लिखा है: "इंडोनेशिया की रानी सुकमावती सुकर्णोपुत्री का आज विधिवत अपने 30 हजार समर्थकों के साथ इस्लाम छोड़ हिंदू धर्म अपनाना एक बडे बदलाव का सूत्रपात है. बिना तलवार, बिना भय, लालच के लोग सनातन की संतान बन जाते है. आखिर एक दिन अपनी जड़ों की ओर लौटना होता है."

यह पोस्ट इंडोनेशियाई राजनेता और देश के दिवंगत पहले राष्ट्रपति सुकर्णो की बेटी सुकमावती के 26 अक्टूबर, 2021 को हिंदू धर्म में परिवर्तित होने के एक दिन बाद शेयर की गई थी. इसकी रिपोर्ट यहां और  यहां पढ़ें.

ये तस्वीर फ़ेसबुक पर लगभग 900 से ज़्यादा बार शेयर की गई है. इसे यहां, यहां और यहां फ़ेसबुक पर और यहां, यहां ट्विटर पर शेयर किया गया है.

हालाँकि ये दावा ग़लत है.

सुराकार्ता की एक अमीर महिला का हिंदू धर्म में परिवर्तन

गूगल पर कुछ कीवर्ड्स की मदद से वायरल तस्वीर का रिवर्स इमेज सर्च करने पर ये तस्वीर हमें बाली एक्सप्रेस की 18 जुलाई 2017 की एक रिपोर्ट में मिली. ये न्यूज़ आउटलेट इंडोनेशिया के एक प्रांत बाली का लोकल मीडिया है.

रिपोर्ट की हेडलाइन में लिखा है: "आधिकारिक तौर पर हिंदू धर्म अपनाने के बाद सोलो की एक अमीर महिला पसरामन खोलने का इरादा रखती है."

इंडोनेशिया के मध्य जावा प्रांत स्थित सुराकार्ता शहर को सोलो नाम से भी जाना जाता है.

पसरामन एक तरह का शैक्षणिक संस्थान है जहां हिंदू धर्म से जुड़ी शिक्षा दी जाती है.

रिपोर्ट के पहले पैराग्राफ़ में लिखा है: "सोलो पैलेस की एक रईस महिला, KRA महिन्द्रानी कुस्वविदंती परमासरी ने सोमवार, 17 जुलाई को लुहुर कैटूर कांडा पाट साड़ी मंदिर, पेगुयांगन, देनपसार में सुधी वदानी समारोह से गुजरने के बाद आधिकारिक तौर पर हिंदू धर्म ग्रहण किया."

रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि महिंद्रानी का जन्म रोम, इटली में हुआ था और इस समय वह एक संगीतकार के रूप में काम करती हैं.

फ़ोटो के कैप्शन में लिखा है: "सुधी वदानी: KRA महिंद्राणी कुस्वविदंती, लुहुर कातुर कांडा पाट साड़ी मंदिर, पेगुयांगन, देनपसार, सोमवार, 17 जुलाई को एक हिंदू धर्मांतरण समारोह के जुलूस के साथ."

"सुधी वदानी" एक हिंदू धर्मांतरण समारोह है.

लुहुर कैटूर कांडा पट साड़ी मंदिर, इंडोनेशिया में मुख्य रूप से हिंदू द्वीप प्रांत, बाली की राजधानी देनपसार में एक हिंदू मंदिर है.

नीचे भ्रामक पोस्ट की तस्वीर (बायें) और बाली एक्सप्रेस की रिपोर्ट में प्रयोग की गई तस्वीर (दायें) के बीच एक तुलना है.

भ्रामक पोस्ट की तस्वीर (बायें) और बाली एक्सप्रेस की रिपोर्ट में प्रयोग की गई तस्वीर (दायें) के बीच तुलना

सुरकार्ता की 56 वर्षीय एक रईस महिला के हिंदू धर्म में धर्मांतरण की सूचना जुलाई 2017 में कई अन्य समाचार आउटलेट्स द्वारा भी दी गई थी, जैसे कि यहां ट्रिब्यून बाली और यहां नुसा बाली में इसके बारे में ख़बर है.

महिंद्राणी, संगीतकार त्रिसुतजी जुलियाती कमल की बेटी हैं.

सुकमावती का हिंदू धर्म में परिवर्तन

सुकमावती के हिंदू धर्मांतरण समारोह का एक वीडियो इंडोनेशियाई समाचार आउटलेट VIVA.co.id द्वारा 26 अक्टूबर, 2021 को  यहां यूट्यूब पर प्रकाशित किया गया था.

पोस्ट के कैप्शन में लिखा है: "राष्ट्रपति सुकर्णो की बेटी, सुकमावती सोकर्णोपुत्री ने इस्लाम से हिंदू धर्म में धर्मांतरण की रस्म निभाई. यह अनुष्ठान सुकर्णो सेंटर के हेरिटेज साइट पर बाले अगुंग सिंगराजा, बुलेलेंग, बाली में मंगलवार, 26 अक्टूबर, 2021 को आयोजित किया गया था."

सुकमावती के सुधी वदानी समारोह की तस्वीरें और फुटेज अन्य इंडोनेशियाई मीडिया, जैसे Detik.com और Tempo.co पर भी प्रकाशित किए गए थे.

सुकमावती ने एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि उन्होंने अपने 70वें जन्मदिन पर अपनी, बाली स्थित दादी की आस्था के अनुरूप हिंदू धर्म अपना लिया.

एक बार उनकी शादी स्वर्गीय मंगकुनेगारा IX से हुई थी, लेकिन 1987 में सुरकार्ता में मंगकुनेगरा महल में उनके राजा बनने से कुछ साल पहले ही दोनों का तलाक हो गया.

ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं है जो बताती हो कि सुकमावती के 30,000 अनुयायी भी हिंदू धर्म में परिवर्तित हो गए, जैसा कि भ्रामक पोस्ट में दावा किया गया है.