इस वीडियो में कैलाश नहीं किलीमंजारो पर्वत नज़र आ रहा है

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.

बर्फ़ की चादर से ढके एक पर्वत का वीडियो फ़ेसबुक पर हज़ारों बार इस दावे के साथ शेयर किया गया कि ये तिब्बत में स्थित कैलाश पर्वत है. लेकिन असल में ये तंज़ानिया का किलिमंजारोज पर्वत है.

करीब दो मिनट का ये वीडियो फ़ेसबुक पर 24 जुलाई, 2021 को यहां शेयर किया गया जिसे अब तक 2,200 से ज़्यादा बार शेयर किया जा चुका है.

इसमें बर्फ़ से ढके हुए एक पर्वत को ऊपर से दिखाया जा रहा है.

इसके कैप्शन में लिखा गया है, “राम राम जी. भारत सरकार के प्रयास के कारण कैलाश पर्वत के ऊपर का दृश्य पहली बार संभव हो सका है जी 21-7-2021 सावन प्रारंभ हो गया आप भी दर्शन कर लें जी.”

भ्रामक दावे वाले फेसबुक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

ये वीडियो श्रावण मास के चलते शेयर किया जा रहा है जब लोग शिव की पूजा करते हैं. इस वर्ष श्रावण 25 जुलाई से शुरू हुआ और 22 अगस्त को समाप्त होगा.

हिन्दुओं का मानना है कि शिव पश्चिमी तिब्बत में स्थित कैलाश पर्वत पर निवास करते हैं. एशिया में कुछ अन्य धर्मों के लोगों के लिए भी ये कैलाश पर्वत एक धार्मिक स्थल है.

ये वीडियो फ़ेसबुक पर यहां, यहां और यहां शेयर किये जाने के बाद 2,000 से ज़्यादा बार देखा जा चुका है.

ये दावा ग़लत है.

यांडेक्स पर वीडियो की की-फ्रेम्स का रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें यह एक यूट्यूब चैनल पर यहां मिला जो वायरल वीडियो से ज़्यादा लम्बा है. इसे डेली न्यूज़ डिजिटल ने 23 जुलाई, 2020 को अपलोड किया था.

पोस्ट के कैप्शन में बताया गया है, “प्रिसीज़न एयर पायलट रेमतुल्लाह रिज़वान ने किलिमंजारो पर्वत के पास विमान 360 डिग्री घुमाया, बहुत साफ़ दिन, पर्वतारोहियों को क्रेटर, ढलान और बर्फ़ के पास चढ़ते देखा जा सकता था. शानदार!”

नीचे भ्रामक पोस्ट (बाएं) और असल यूट्यूब वीडियो (दाएं) के स्क्रीनशॉट की तुलना देख सकते हैं.

भ्रामक पोस्ट और यूट्यूब वीडियो के स्क्रीनशॉट की तुलना

किलिमंजारो अफ़्रीका का सबसे ऊंचा पर्वत है.

प्रिसीज़न एयर दर-इ-सलाम, तंज़ानिया का एयरलाइन है.

नीचे किलिमंजारो पर्वत के एक अन्य यूट्यूब वीडियो का स्क्रीनशॉट है जिसमें वैसी ही बर्फ़ की चादर दूसरे ऐंगल से दिख रही है.

यूट्यूब वीडियो का स्क्रीनशॉट

ये वीडियो 7 अक्टूबर, 2017 को अपलोड किया गया था जिसका टाइटल है, “Kilimanjaro Fly-By on Precision Air - 06 Oct 2017.”

इसके कैप्शन में लिखा है, “उड़ान पैराग्लाइडिंग पर ख़त्म नहीं होती. आज सुबह नैरोबी जाने वाली फ्लाइट में बैठे यात्रियों के लिए किलिमंजारो पर्वत के ऊपर से गुज़रना यादगार बन गया. कैप्टन रिज़वान का उड़ान, किलिमंजारो और तंज़ानिया को लेकर उत्साह हम सभी के लिए प्रेरणा है.धन्यवाद!”

रिज़वान 2 साल पहले इस एयरलाइन कंपनी से सेवानिवृत हो चुके है. प्रिसीज़न एयर ने 15 अगस्त, 2019 को ट्वीट में बताया था, “कैप्टन रिज़वान रेमतुल्लाह ने हमारे साथ अपनी आख़िरी उड़ान स्टाइल में भरी. वो हमारे साथ 16 सालों से थे और किलिमंजारो की चोटी के पास 360 परफ़ॉर्म करते हुए उसे बढ़ावा देने के अपने जुनून के लिए याद किये जायेंगे.”