भाजपा नेता ने अक्षय ऊर्जा उन्नति की तारीफ़ में चीन की तस्वीर को भारत का बताया

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेताओं ने अक्षय ऊर्जा में भारत की तरक्की पर पोस्ट करते हुए सोलर पावर प्लांट की दो तस्वीरें शेयर कीं. लेकिन इनमें से एक तस्वीर भ्रामक है. यह तस्वीर पहले भी रिपोर्ट्स में छापी जा चुकी है जिसमें बताया गया है कि ये चीन की है.

ये पोस्ट भाजपा के राष्ट्रीय सचिव एवं मध्यप्रदेश के सह-प्रभारी सुनील देवधर ने 13 अगस्त को फ़ेसबुक पर यहां और ट्विटर यहां शेयर की. इसे 500 से ज़्यादा बार शेयर किया जा चुका है.

इस पोस्ट में अधिकारियों द्वारा सोलर पावर प्लांट में निरीक्षण की दो तस्वीरें हैं.

कैप्शन में भारत सरकार के एक प्रेस रिलीज़ का लिंक है और साथ में लिखा है, "भारत ने 100 गीगावॉट की स्थापित अक्षय ऊर्जा क्षमता का महत्वपूर्ण पड़ाव प्राप्त किया."

आगे लिखा है, "भारत आज स्थापित अक्षय ऊर्जा क्षमता के मामले में विश्व में चौथे स्थान पर, सौर ऊर्जा में पांचवें और पवन ऊर्जा में चौथे स्थान पर है. #IndiaAt75."

19 अगस्त, 2021 को लिया गया भ्रामक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

इसके बाद अन्य फ़ेसबुक यूज़र्स ने भी इसे यहां और यहां शेयर किया. ये तस्वीर कुछ अन्य भाजपा नेताओं ने यहां और यहां ट्वीट की.

लेकिन ये तस्वीर भ्रामक है क्योंकि इसे रिपोर्ट्स में पहले चीन के पावर प्लांट का बताया गया है.

पहली तस्वीर

इस तस्वीर का टिनआय पर रिवर्स इमेज सर्च करने पर 3 मई, 2019 की ये न्यूज़ रिपोर्ट मिली जिसमें बीजिंग के मीडिया आउटलेट केयिक्सिन ग्लोबल ने चीन में अक्षय ऊर्जा पर रिपोर्ट किया है. 

19 अगस्त, 2021 को लिया गया कायिक्सिन ग्लोबल में छपी तस्वीर का स्क्रीनशॉट

इस तस्वीर का कैप्शन कहता है, "हुबेई प्रान्त के ज़ियानिंग में लगे एक फ़ोटोवोल्टेक पावर स्टेशन का निरिक्षण करते तकनीशियन. तस्वीर: IC फ़ोटो."

यही तस्वीर स्टॉक फ़ोटो एजेंसी शटरस्टॉक की वेबसाइट पर भी यहां मौजूद है. कैप्शन में लिखा है, "हुबेई प्रान्त के ज़ियानिंग में लगे एक फ़ोटोवोल्टेक पावर स्टेशन." 

ये तस्वीर सरकार द्वारा चलाये जा रहे एक अख़बार पीपल्स डेली की वेबसाइट पर भी यहां छापी गयी.

नीचे भ्रामक फ़ेसबुक पोस्ट (बाएं) और केयिक्सिन ग्लोबल की न्यूज़ रिपोर्ट में पब्लिश हुई तस्वीर की तुलना देखी जा सकती है.

भ्रामक फेसबुक पोस्ट (बाएं) और केयिक्सिन ग्लोबल की तस्वीर की तुलना (दाएं)

दूसरी तस्वीर

गूगल पर दूसरी तस्वीर का रिवर्स इमेज सर्च करने पर पता चलता है कि ये राजस्थान में बने भादला सोलर प्लांट की है. 

ये तस्वीर AFP के फ़ोटोग्राफर मनी शर्मा ने ली थी और इसे AFP की वेबसाइट पर यहां देखी जा सकती है.

20 अगस्त, 2021 को AFP की वेबसाइट पर मिली तस्वीर का लिया गया स्क्रीनशॉट

इसके कैप्शन में बताया गया है, "23 अगस्त, 2015 को ली गयी इस तस्वीर में पश्चिमी भारतीय राज्य राजस्थान में जोधपुर से करीब 225 किलोमीटर की दूरी पर भादला में रोहा दायीचेम सोलर प्लांट में निर्माण होता हुआ नज़र आ रहा है."

समाचार पत्र मिंट ने भी भादला सोलर पार्क की नीलामी पर रिपोर्ट करते हुए ये तस्वीर छापी थी.