'हिजाब गर्ल' के गलत दावे से वायरल तस्वीर कर्नाटक की एक राजनितिक कार्यकर्ता की है

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.

सोशल मीडिया पर कर्नाटक की 'हिजाब गर्ल' के ख़िलाफ़ लगातार भ्रामक तस्वीरें और वीडियो शेयर किये जा रहे हैं. एक तस्वीर को शेयर कर दावा किया जा रहा है कि ये वही हिजाब गर्ल मुस्कान ख़ान है जिसका कर्नाटक के एक स्कूल में कुछ हिंदू लड़कों की भीड़ ने नारेबाज़ी करते हुए पीछा किया था. हालांकि दावा ग़लत है; असल तस्वीर में दिख रही लड़की एक अन्य महिला एक्टिविस्ट है जिसने AFP को बताया कि उसकी तस्वीर का ग़लत इस्तेमाल किया गया है.

तस्वीर को फ़ेसबुक पर यहां 9 फरवरी 2022 को शेयर किया गया है.

इस तस्वीर में महिला के साथ कई अन्य लोग भी समूह में नज़र आ रहे हैं.

पोस्ट को शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा है; “HIJAB TOOLKIT ये जो हरे घेरे में लड़की देख रहे हो ना, बस वही वो कर्नाटक वाली हिजाब गर्ल है.. अब समझ में आया सारा मामला..?”

भ्रामक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

वायरल तस्वीर को फ़ेसबुक पर यहां, यहां और यहां साथ ही ट्विटर पर यहां और यहां शेयर किया गया है.

ये पोस्ट कर्नाटक के एक स्कूल द्वारा हिजाब पर प्रतिबंध लगाने के बाद से ही देश भर में विरोध प्रदर्शन और धार्मिक तनाव के बीच शेयर की जा रही है.

हालांकि दावा ग़लत है, वायरल तस्वीर में हरे रंग के घेरे में दिख रही लड़की हिजाब गर्ल मुस्कान खान नहीं बल्कि एक स्थानीय सामाजिक कार्यकर्ता नजमा नज़ीर हैं जो बंगलौर में रहती हैं.

कुछ कीवर्ड्स के साथ तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने पर ये हमें 31 मई 2019 की एक फ़ेसबुक पोस्ट में मिला जिसमें नजमा नज़ीर को भी टैग किया गया था. 

नीचे भ्रामक पोस्ट की तस्वीर (बायें) और 2019 की फ़ेसबुक पोस्ट (दायें) के बीच एक तुलना है. 

नजमा नज़ीर एक मुस्लिम हैं जो एक स्थानीय सामाजिक कार्यकर्ता भी हैं. उन्होंने 2020 में जनता दल (सेकुलर) पार्टी भी ज्वाइन की थी.

उन्होंने तस्वीर में दिख रही अन्य महिलाओं की पहचान एक्टिविस्ट शेहला राशिद , ऋचा सिंह और तीस्ता सीतलवाड़ के रूप में की. फ़िल्म अभिनेता और राजनेता प्रकाश राज भी इस तस्वीर में मौजूद हैं. 

नीचे भ्रामक पोस्ट में दिख रही नज़ीर की तस्वीर (बायें) और उनकी फ़ेसबुक प्रोफ़ाइल से ली गई अन्य तस्वीरों (दायें) के बीच एक तुलना है.