राजस्थान में बीच बाजार हत्या की पुरानी वीडियो झूठे दावे से वायरल

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.

सोशल मीडिया पर एक वीडियो को शेयर कर दावा किया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश के बरेली में होली के दिन रंग लगाए हुए कुछ बाइक सवारों को मुस्लिम समुदाय के लोगो ने पीटा. वीडियो को फ़ेसबुक और ट्विटर पर अब तक हजारों बार देखा और शेयर किया जा चुका है. हालांकि दावा गलत है. वायरल वीडियो होली के पहले का है और राजस्थान का है. पुलिस के अनुसार ये एक ही समुदाय के लोगों के आपसी झगड़े की घटना थी जिसमे कोई सांप्रदायिक मोड़ नहीं.

चेतावनी: हिंसक फ़ुटेज

वीडियो को फ़ेसबुक पर यहां 23 मार्च, 2022 को शेयर किया गया है.

फ़ेसबुक पोस्ट के कैप्शन में लिखा है, "दिनांक 18/3/22 बहेड़ी, बरेली, यूपी में अभी केवल एक मुस्लिम विधायक जीता है पर इनकी हिम्मत देखिए, रंग लगे हुए बाइक सवारों को घेरकर पीटा जा रहा है. यह वीडियो योगी जी तक पहुंचाएं ताकि इनकी गर्मी निकल सके."

चेतावनी

5 अप्रैल, 2022 को लिया गया भ्रामक फ़ेसबुक पोस्ट का स्क्रीनशॉट


मार्च 2022 में हुए चुनावो में विपक्षी समाजवादी पार्टी के मुस्लिम उम्मीदवार अताउर्रहमान ने बरेली में बहेड़ी सीट पर जीत हासिल की थी. 

वीडियो को अब तक 10,000 से भी अधिक बार देखा गया है और फ़ेसबुक पर यहां और ट्विटर पर यहां, यहां शेयर किया गया है.

एक यूजर ने वायरल पोस्ट में कमेंट किया: "इस देश में अब हिंदू सुरक्षित नहीं है. क्या अब हम अपने त्योहार भी नहीं माना सकते हैं. योगी जी अब आप ही कुछ कर सकते हैं."

एक यूज़र ने वायरल पोस्ट में कमेंट किया; "इस देश में अब हिंदू सुरक्षित नहीं है. क्या अब हम अपने त्योहार भी नहीं माना सकते हैं. योगी जी अब आप ही कुछ कर सकते हैं."

हालांकि ये दावा ग़लत है. 

राजस्थान में हत्या का मामला

वीडियो दरअसल राजस्थान में फिल्माया गया था - उत्तर प्रदेश में नहीं, जैसा कि पोस्ट में दावा किया गया है.

वायरल वीडियो के कीफ्रेम्स को रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें 17 मार्च, 2022 को न्यूज 18 के आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर अपलोड एक वीडियो रिपोर्ट मिली.  

नीचे भ्रामक पोस्ट के स्क्रीनशॉट (बाएं) और वीडियो रिपोर्ट (दाएं) के स्क्रीनशॉट के बीच तुलना देख सकते हैं:

चेतावनी

भ्रामक पोस्ट (बाएं) और न्यूज़ रिपोर्ट (दाएं) के स्क्रीनशॉट के बीच तुलना


वीडियो की हेडलाइन में लिखा है: "जयपुर में बीच सड़क एक नृशंस हत्या, स्थानीय नेताओं ने कानून व्यवस्था के मुद्दे पर सरकार को घेरा."

रिपोर्ट के मुताबिक ये हमला राजस्थान की राजधानी जयपुर में 13 मार्च, 2022 को हुआ था जिसमें विशाल यादव नाम के एक व्यक्ति की मृत्यु हो गई.

आगे बताया गया है कि, "विशाल अपने कुछ दोस्तो के साथ 13 मार्च, 2022 को जयपुर के एक होटल में अपने कुछ दोस्तों के साथ अपना जन्मदिन मनाने गया था जहां होटल स्टाफ के साथ किसी बात पर उसका झगड़ा हो गया था."

इस घटना के संबंध में दैनिक भास्कर और दैनिक जागरण में भी 16 मार्च, 2022 को रिपोर्ट प्रकाशित की गई है.

वीडियो के विश्लेषण से पता चलता है कि यह जयपुर में गूगल मैप्स पर जियोटैग की गई इस तस्वीर से मेल खाता है.

नीचे हाइलाइट किए गए समान तत्वों के साथ एक स्क्रीनशॉट तुलना है:

कोई सांप्रदायिक ऐंगल नहीं 

राजस्थान पुलिस के सहायक पुलिस आयुक्त आलोक कुमार सैनी ने AFP को बताया कि, "घटना से जुड़े सभी आरोपी गिरफतार किए जा चुके हैं. इस घटना में कोई भी सांप्रदायिक वजह नहीं थी ये एक आपसी मामला था और दोनों ही पक्ष हिंदू समुदाय से हैं. इस घटना का होली से कोई लेना देना नहीं है."

उत्तर प्रदेश पुलिस के फ़ैक्ट-चेक विभाग ने भी वायरल दावे को ग़लत बताते हुए ट्वीट किया है.