दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल (बीच में) और पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान (बाएं) 2 अप्रैल, 2022 को अहमदाबाद में रोड शो के दौरान समर्थकों की भीड़ को सम्बोधित करते हुए. ( AFP / SAM PANTHAKY)

न्यूयॉर्क टाइम्स का प्रतीक चिन्ह लगा AAP की गुजरात रैली के बारे में फ़र्ज़ी दावा वायरल

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.

सोशल मीडिया पर न्यूयॉर्क टाइम्स के नाम से एक वायरल एक स्क्रीनशॉट को हजारों बार शेयर किया गया है जिसमें लिखा है कि गुजरात में आम आदमी पार्टी की रैली में 25 करोड़ लोगों ने शामिल होकर एक नया विश्व रिकॉर्ड बना दिया है. हालांकि न्यूयॉर्क टाइम्स ने वायरल स्क्रीनशॉट को एडिटेड बताया और आम आदमी पार्टी (गुजरात) के मीडिया संयोजक ने भी AFP को बताया कि रैली में लगभग 35-40 हज़ार लोग एकत्र हुए थे.

तस्वीर को यहां ट्विटर पर 3 अप्रैल, 2022 को शेयर किया गया है जहां इसे 1800 बार से भी ज्यादा रिट्वीट किया जा चुका है.

भ्रामक पोस्ट का 13 अप्रैल, 2022 को लिया गया स्क्रीनशॉट

न्यूयॉर्क टाइम्स के नाम से वायरल फर्ज़ी आर्टिकल की हेडलाइन में लिखा है, "आम आदमी पार्टी ने अपनी रैली में सबसे ज्यादा लोग जुटाकर बनाया नया विश्व रिकॉर्ड."

तस्वीर में सड़क एक में लोगों की भारी भीड़ दिख रही है जिसमें लोग हाथ में तिरंगा झंडा लिए हुए हैं. इसके साथ उप शीर्षक में लिखा है; "पंजाब चुनावों में रिकॉर्डतोड़ जीत के बाद गुजरात में अरविंद केजरीवाल के रैली में लगभग 25 करोड़ लोग शामिल हुए."

हालांकि जैसा की ट्वीट के कैप्शन में बताया गया है, गुजरात राज्य की कुल आबादी छह करोड़ है.

बिल्कुल यही तस्वीर फ़ेसबुक पर यहां, यहां और यहां शेयर की गई है.

एडिटेड तस्वीर

वॉशिंगटन पोस्ट की स्तंभकार लेखिका पत्रकार राणा अयूब के 3 अप्रैल के एक ट्वीट के जवाब में न्यूयॉर्क टाइम्स की कम्युनिकेशन टीम ने लिखा; "उस ट्वीट में प्रयोग की गई तस्वीर एडिटेड है न्यूयॉर्क टाइम्स ने ऐसी कोई भी रिपोर्ट प्रकाशित नहीं की है." 

पत्रकार राणा अयूब ने उस स्क्रीनशॉट को पोस्ट करते हुए लिखा था, "भारत में दक्षिणपंथी लोगों द्वारा ये तस्वीर न्यूयॉर्क टाइम्स की स्टोरी के नाम से शेयर की जा रही है. NYT या कोई भी अंतरराष्ट्रीय मीडिया संस्थान कभी भी 'करोड़' में नहीं लिखता. मूल बात?"

AFP को न्यूयॉर्क टाइम्स की वेबसाइट पर भी वायरल हो रहे स्क्रीनशॉट की हेडलाइन के साथ कोई भी आर्टिकल या लेख नहीं मिला. 

भारतीय राजनीति न्यूयॉर्क टाइम्स पर लिखे गए एक वास्तविक आर्टिकल और वायरल हो रहे फर्ज़ी आर्टिकल की तुलना करने पर पता चलता है कि दोनों में अलग अलग फॉन्ट मतलब मुद्रलिपि का उपयोग किया गया है और इसमें हेडलाइन के ऊपर डेटलाइन, मतलब लेख किस समय प्रकाशित हुआ, या सब्सक्रिप्शन की कोई जानकारी शामिल नहीं है.

भ्रामक पोस्ट (बाएं) और एक असल आर्टिकल (दाएं) के स्क्रीनशॉट की तुलना

 गुजरात रैली

कथित स्क्रीनशॉट में इस्तेमाल की गई तस्वीर को आप के नेता और पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान ने 2 अप्रैल को अहमदाबाद में एक रैली के बाद कई अन्य तस्वीरों के साथ ट्वीट किया था.

ट्वीट के कैप्शन में लिखा है, "अहमदाबाद की तिरंगा रैली में भारी भीड़ ये साबित करती है कि दिल्ली और पंजाब के बाद गुजरात के लोग भी ईमानदार राजनीति का झंडा लहराने के लिए तैयार हैं."

"भाजपा की 27 साल की भ्रष्ट राजनीति से तंग आकर जनता ने अपने काम काम की राजनीति को स्वीकार करने की तैयारी कर ली है."

AFP ने आम आदमी पार्टी गुजरात के मीडिया संयोजक योगेश जड़वानी से बात की और उन्होंने बताया, "हमारे आंकड़े के हिसाब से तिरंगा यात्रा में करीब 35-40 हज़ार लोग आये थे."

द इंडियन एक्सप्रेस में रैली के बारे में एक रिपोर्ट में इसे "बड़े पैमाने का रोड शो" कहा गया है लेकिन इसमें रिकॉर्ड तोड़ भीड़ होने जैसा कोई दावा नहीं किया गया है. 

AFP ने यहां और यहां राज्य के चुनावों के बाद वायरल फेक न्यूज़ का खण्डन किया है.