गरीबी और भ्रष्टाचार नहीं, मेक्सिको संसद में ये प्रदर्शन एक ऊर्जा विधेयक के ख़िलाफ़ था

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.

सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल हो रही एक तस्वीर के साथ दावा किया जा रहा है कि ये मेक्सिको के सांसद को दिखाती है जो भ्रष्टाचार और गरीबी के खिलाफ़ संसद में कपड़े उतारकर प्रदर्शन कर रहे हैं. ये दावा भ्रामक है: संसद सदस्य का ये प्रदर्शन असल में दिसंबर 2013 में एक ऊर्जा विधेयक के खिलाफ़ था जो उनके अनुसार देश के कपड़े उतरने जैसा था. उनके भाषण में गरीबी या भ्रष्टाचार के बारे में कोई बात नहीं कही गयी थी.

तस्वीर को 1 अप्रैल, 2022 को शेयर करते हुए फ़ेसबुक यूज़र ने लिखा, "समाज का दर्द ये होता है. मेक्सिको में, संसद का एक सदस्य संसद में बहस के दौरान अपने सारे कपड़े उतार देता है और बोलता है कि "आपको मुझे नग्न देखने मे शर्म आती है लेकिन आपको अपने देश को भूखे, नंगे, हताश, बेरोजगार और निजी कंपनियाँ जब इस देश का सारा धन लूट रही हैं और आम आदमी को गुलाम बना रही हैं तब ये देख कर शर्म नही आती."

इस पोस्ट को 1,000 से ज़्यादा बार लाइक और 150 से अधिक बार शेयर किया जा चुका है.

चेतावनी

भ्रामक पोस्ट का 2 मई, 2022 को लिया गया स्क्रीनशॉट


पोस्ट पर किये गए कॉमेंट्स भी इशारा करते हैं कि लोगों ने इसे सच मान लिया. 

एक यूज़र ने लिखा, "कुछ दिन बाद भारत के नेता भी इसी प्रकार करने लगेंगे."

एक और कॉमेंट में कहा गया, "काश ऐसे ही सांसद हमारे देश में होते."

इस दावे के साथ ये तस्वीर फ़ेसबुक पर यहां और यहां; और ट्विटर पर यहां और यहां शेयर की गयी.

लेकिन ये दावे भ्रामक हैं.

सांसद का प्रदर्शन

वायरल तस्वीर मेक्सिको के वर्तमान सांसद अंटोनियो गार्सिया कोनेहो की है जब उन्होंने 2013 में ऊर्जा से संबधित एक विधयेक के कुछ हिस्से का विरोध करते हुए अपने कपड़े उतार दिए थे.

तत्कालीन कांग्रेस सदस्य गार्सिया ने गरीबी और भ्रष्टाचार पर वायरल पोस्ट वाला बयान नहीं दिया था.

तस्वीर का रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें BBC की 13 दिसंबर, 2013 की एक रिपोर्ट मिली जिसमें ऐसी ही तस्वीर प्रकाशित की गयी है.

 इसकी हेडलाइन है, "मेक्सिको की कांग्रेस ने विवादित तेल और ऊर्जा विधेयक पास कर दिया."

तस्वीर के कैप्शन में लिखा गया है, "सांसद अंटोनियो गार्सिया ने मेक्सिको की तेल संपत्ति को प्रभावित करने के विरोध में कांग्रेस में अपने वस्त्र उतार दिए."

यहां गार्सिया का बयान है, “देखो किस तरह तुम देश को नग्न कर रहे हो. मुनाफ़ा कहां है? मुझे शर्म नहीं आ रही क्योंकि जो तुम कर रहे हो, असल में वो बेशर्मी है.”

नीचे भ्रामक पोस्ट वाली तस्वीर (बाएं) और BBC द्वारा प्रकाशित (दाएं) तस्वीर की तुलना देख सकते हैं.

चेतावनी

अंटोनियो का भाषण

इसके बाद यूट्यूब पर कीवर्ड सर्च में 12 दिसंबर, 2013 का ये वीडियो मिला जिसे मेक्सिको के चैम्बर ऑफ़ डिप्युटीज़ के वेरिफ़ाइड चैनल ने अपलोड किया था.

इस वीडियो में गार्सिया का ऊर्जा विधेयक पर दिया गया पूरा भाषण है. वीडियो में गार्सिया 11 मिनट 35 सेकंड पर अपने कपड़े उतारने शुरू करते हैं. 

बीबीसी और ABC न्यूज़ दोनों के अनुसार गार्सिया ने ऊर्जा विधेयक को "देश के कपड़े उतारने जैसा" बताया.

AFP के स्पेनिश भाषी पत्रकार ने भी साफ़ किया कि अंटोनियो गार्सिया ने ऐसा कोई बयान नहीं दिया है जैसा भ्रामक पोस्ट्स में लिखा है.

उनके भाषण के एक हिस्से का हिंदी अनुवाद है, "मेक्सिको के संविधान का बुरी तरह उल्लंघन किया जा रहा है. इसलिए साथियों, टेलीफोनोस डी मेक्सिको का निजीकरण देश के कपड़े उतारने जैसा है. वो देश को नग्न कर रहे हैं. उन्होंने टेलीफोनोस डी मेक्सिको का निजीकरण कर दिया लेकिन मुनाफ़ा कहां है?"

वो आगे कहते हैं, "उन्होंने ये फेरोकेर्रिलेस डी मेक्सिको के साथ भी यही किया. हां, मेरे पास यही बचा है. वो मुझसे ये नहीं छीन सकते हैं. मैं बिलकुल शर्मिंदा नहीं हूं, आपके पास भी एक शरीर है."

ये दावा पहले भी वायरल हो चुका है और AFP ने इसे अंग्रेज़ी में यहां फ़ैक्ट चेक किया था. 

अनुवाद और अनुकूलन: