मणिपुर की पर्यावरण एक्टिविस्ट की तस्वीर विदेशी पर्यटक बताकर वायरल

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.
   

ताज महल के आस पास फैले प्लास्टिक प्रदूषण की आलोचना करते हुए हाथ में प्लेकार्ड पकड़े एक लड़की की तस्वीर को सोशल मीडिया पर हज़ारों बार शेयर किया गया है. साथ में दावा किया जा रहा है कि वो एक विदेशी पर्यटक है जो प्लास्टिक प्रदूषण के मुद्दे पर उत्तर प्रदेश सरकार की आलोचना कर रही है. हालांकि ये तस्वीर मणिपुर की एक दस वर्षीय पर्यावरण एक्टिविस्ट लिसिप्रिया कांगुजम की है. उन्होने AFP को बताया कि वो एक सच्ची भारतीय हैं.

ये तस्वीर ट्विटर पर 22 जून, 2022 को शेयर की गई है. 

तस्वीर में एक लड़की हाथ में एक प्लेकार्ड लिये ताज महल के पीछे खड़ी दिखाई दे रही है. प्लेकार्ड पर लिखा है, “ताजमहल की सुन्दरता के पीछे प्लास्टिक कचरा और प्रदूषण है.” 

तस्वीर को शेयर कर कैप्शन में लिखा है, “विदेशी पर्यटक भी भाजपा शासित योगी सरकार को आईना दिखाने को मजबूर हैं. भाजपा की सरकार में यमुना जी गंदगी से भरी पड़ी हैं ,ताजमहल को खूबसूरती पर ये गंदगी एक बदनुमा दाग है. विदेशी पर्यटक द्वारा सरकार को आईना दिखाना बेहद शर्मनाक है ,भारत और यूपी की ये छवि भाजपा सरकार ने बनाई है?” 

तस्वीर को इसी दावे के साथ फ़ेसबुक पर यहां, यहां और ट्विटर पर यहां, यहां शेयर किया गया है. 

हालांकि ये दावा गलत है, तस्वीर में दिख रही लड़की कोई विदेशी पर्यटक नहीं बल्कि मणिपुर की एक पर्यावरण एक्टिविस्ट लिसिप्रिया कांगुजम हैं. 

 ‘लिसिप्रिया कांगुजम’ 

तस्वीर को रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमने पाया कि इसे 21 जून, 2022 को 10 वर्षाय पर्यावरण एक्टिविस्ट लिसिप्रिया कांगुजम ने अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किया है. 

मूल रूप से पूर्वोत्तर राज्य मणिपुर की रहने वाली लिसिप्रिया ने प्रदूषण के मुद्दे को लेकर संसद के सामने कई बार प्रोटेस्ट किया है. मीडिया रिपोर्ट्स में उन्हें भारत की ग्रेटा थुनबर्ग के रूप में संबोधित किया जाता है. 

ट्वीट के कैप्शन में लिखा है, “ताजमहल देखने के दौरान आपने यह नजारा देखा होगा. आप कह सकते हैं कि यह बहुत प्रदूषित है, लेकिन जब हर साल लाखों लोग आते हैं तब आपके पॉलीथीन बैग का 1 टुकड़ा, एक साधारण प्लास्टिक की पानी की बोतल से आज ये स्थिति हुई है."

27 जून को AFP से बात करते हुए कांगुजम ने कहा, “कुछ लोग मेरी तस्वीर को गलत तरीके से शेयर कर भ्रामक दावे कर रहे हैं लेकिन मैं उन्हे बता दूं कि मैं एक सच्ची भारतीय हूं.” 

उन्होंने आगे कहा, “मैं 20 जून को ताज महल गई थी. मैं पूरी दुनिया को, विशेष रूप से प्लास्टिक प्रदूषण के बारे में, पर्यावरण क्षरण और जलवायु परिवर्तन के बारे में एक मजबूत, मार्मिक संदेश देना चाहती हूं.”

उन्होंने गलत दावे से वायरल एक ट्वीट के जवाब में 23 जून को लिखा, “हैलो सर, मैं एक सच्ची भारतीय हूं कोई विदेशी पर्यटक नहीं.”

इंडिया टुडे की एक खबर के मुताबिक उनके ट्वीट के बाद, स्थानीय नगरपालिका अधिकारियों ने ताजमहल के आसपास के क्षेत्र की साफ़ सफ़ाई की ज़िम्मेदार स्वच्छता कंपनी पर जुर्माना लगाया.”

नई दिल्ली में वायु प्रदूषण का विरोध करते हुए भारत की संसद के सामने 23 अक्टूबर, 2020 की इस AFP की तस्वीर में कंगुजम को भी देखा जा सकता है.

Child environmental activist Licypriya Kangujam, 9, holds a banner in front of the Indian Parliament in New Delhi on October 23, 2020, to protest against the inaction of the government to fight the capital's air pollution. ( AFP / Prakash Singh)