हिरण का शिकार दिखाता बांग्लादेश का पुराना वीडियो भाजपा से जोड़कर वायरल

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.
  

सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया गया है जिसमें एक शख़्स एक हिरण का शिकार कर रहा है. वीडियो को शेयर करते हुए ये दावा किया गया है कि हिरण का शिकार कर रहा व्यक्ति भारतीय जनता पार्टी का विधायक अनिल उपाध्याय है. ये दावा गलत है: पुरानी न्यूज़ रिपोर्ट्स के मुताबिक ये वीडियो भारत का नहीं बल्कि बांग्लादेश का है और इसमें दिख रहा शख़्स 'ऑस्ट्रेलिया में जन्मा बांग्लादेशी मूल' का व्यक्ति है. भाजपा दिल्ली के मीडिया प्रभारी ने AFP को बताया कि उन्हें अनिल उपाध्याय नाम के किसी नेता के बारे में “कोई जानकारी नहीं है.”

ट्विटर पर ये वीडियो 26 जुलाई, 2022 को शेयर किया गया. इसके साथ दावा किया गया कि वीडियो में दिख रहा शख्स भाजपा विधायक अनिल उपाध्याय है. "ये अभी सरकार में हैं. अब कोई नहीं बोलेगा भावनाएं आहत हो रही हैं. चाल चरित्र चेहरा।”.

वीडियो में एक शख़्स पहले हिरण के एक झुंड की तरफ़ निशाना लगा रहा है और फिर उनमें से एक हिरण को गोली मार रहा है. इतना ही नहीं, शख़्स तड़पते हुए हिरण की गर्दन भी काट रहा है.

वीडियो को डिलीट किये जाने से पहले तक 14,000 से ज़्यादा बार देखा गया.

भ्रामक पोस्ट का 1 अगस्त, 2022 को लिया गया स्क्रीनशॉट

ये वीडियो इसी दावे के साथ ट्विटर पर यहां और यहां; और फ़ेसबुक पर यहां और यहां शेयर किया गया जिसे 3,000 से ज़्यादा बार देखा गया.

भारतीय मीडिया आउटलेट्स बूमलाइव, ऑल्ट न्यूज़ और द टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने पहले भी बताया है कि वीडियो में दिख रहा शख़्स कोई भाजपा नेता नहीं है.

ऑस्ट्रेलिया में पैदा हुआ बांग्लादेशी 

वीडियो के कीफ़्रेम्स को TinEye रिवर्स सर्च करने पर हमें यही वीडियो यूट्यूब पर मिला जिसे 31 जनवरी, 2020 को शेयर किया गया था.

कैप्शन में बताया गया है कि ये वीडियो बांग्लादेश का है.

नीचे भ्रामक पोस्ट (बाएं) और यूट्यूब पर मिले वीडियो के स्क्रीनशॉट की तुलना देख सकते हैं (दाएं).

एक बार फिर रिवर्स सर्च और कीवर्ड सर्च करने पर हमें बांग्लादेशी अख़बार द डेली स्टार का 12 जुलाई, 2015 का एक आर्टिकल भी मिला. 

इसके मुताबिक वीडियो में हिरण को गोली मारने वाला शख़्स मोइन उद्दीन है और ये घटना 4 जुलाई, 2015 को बांग्लादेश के चटगांव की है.

रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद लोगों में इसे लेकर आक्रोश पैदा हो गया था. 

रिपोर्ट में बताया गया है, “वीडियो फ़ेसबुक पर 4 जुलाई को अपलोड किया गया, इसमें मोइन उद्दीन पहले हिरण को गोली मारता है फिर एक चाकू से उसका गला काट देता है, जो वन संरक्षण प्रशासन के मुताबिक अपराध की श्रेणी में आता है.”

मोइन उद्दीन ने इस विवाद के बाद 13 जुलाई, 2015 को एक फ़ेसबुक पोस्ट में सफ़ाई भी दी.

खुद को ऑस्ट्रेलिया में जन्मे बांग्लादेशी बताने वाले मोईन उद्दीन ने डेली स्टार की रिपोर्ट में उनके 'हंटिंग लाइसेंस' के बारे में गलत जानकारी प्रकाशित करने का आरोप लगाया. हालांकि उन्होंने अपने कृत्य के लिए माफ़ी भी मांगी.

उन्होंने कहा, “मैं पिछली बार जब बांग्लादेश गया था तब मैंने 26 जून, 2015 को मीट के लिए एक वयस्क हिरण को मारा था और बदकिस्मती से इसका वीडियो मैंने 4 जुलाई, 2015 को अपने फ़ेसबुक पर अपलोड कर दिया था.”

उन्होंने आगे लिखा, “मैं उन लोगों से माफ़ी मांगता हूं जिनको वो वीडियो देखने के बाद धक्का लगा या दुःख पहुंचा. मैं वादा करता हूं कि मैं दोबारा ऐसी हरकत कभी नहीं करूंगा.”

बीबीसी बांग्ला ने भी इस घटना और सोशल मीडिया पर मचे बवाल पर 12 जुलाई, 2015 को रिपोर्ट प्रकाशित किया था. 

इस रिपोर्ट की हेडलाइन का हिंदी अनुवाद है, “फ़ार्म हिरण की हत्या: मालिक पर कार्रवाई.”

‘अनिल उपाध्याय’

AFP को कई बार कीवर्ड सर्च करने के बाद भी अनिल उपाध्याय नाम का विधायक या सांसद या उसके बारे में कोई आर्टिकल नहीं मिला. 

भाजपा दिल्ली के मीडिया प्रभारी नीलकंठ बक्शी ने 5 अगस्त को AFP से कहा, “मुझे इस नाम के किसी व्यक्ति के बारे में नहीं मालूम है, खासकर दिल्ली में तो ऐसा कोई नहीं है.”