आम आदमी पार्टी की गुजरात रैली के नाम से वायरल ये तस्वीर असल में कहाँ से है?

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.

लोगों की भारी भीड़ दिखाती एक तस्वीर फ़ेसबुक और ट्विटर पर इस दावे से वायरल है कि ये गुजरात में चुनाव से पूर्व आम आदमी पार्टी के हालिया रोड शो की तस्वीर है. असल में ये तस्वीर पश्चिम बंगाल में आयोजित शहीद दिवस की है जिसे 2017 में कोलकाता में खींचा गया था.

ये तस्वीर 11 नवंबर को ट्वीट की गयी जिसे 160 से ज़्यादा बार शेयर किया गया.

तस्वीर में भारी भीड़ है और सड़क किनारे तिरंगे की लम्बी पट्टियां लगी हैं.

तस्वीर के साथ कैप्शन है, “Gopal Italia ने आज सुरत में राघवा चड्ढा के साथ भव्य रोड शो करते हुए नामांकन दाखिल किया। इस तस्वीर से यह साफ हो गया के गुजरात की जनता परिवर्तन चाहती है.”

भ्रामक पोस्ट का 15 नवंबर, 2022 को लिया गया स्क्रीनशॉट

आम आदमी पार्टी नेता और राज्यसभा सांसद राघव चड्ढा ने 11 नवंबर को गुजरात के सूरत में रोड शो किया था जिसके बाद से ये तस्वीर शेयर की जाने लगी.

चड्ढा ने ये रोड शो AAP गुजरात के अध्यक्ष गोपाल इटालिया द्वारा आगामी चुनाव के लिए नामांकन पात्र भरने के मौके पर किया था. मालूम हो कि गुजरात में दिसंबर के पहले सप्ताह में विधानसभा चुनाव होने हैं जहां पिछले 15 साल से भाजपा की सरकार है.

यही तस्वीर फ़ेसबुक पर यहां और यहां; और ट्विटर पर यहां और यहां कुल 200 से ज़्यादा बार शेयर की गयी.

हालांकि ये तस्वीर पुरानी है और गुजरात की नहीं, कोलकाता की है.

शहीद दिवस

इस तस्वीर का यांडेक्स पर रिवर्स इमेज सर्च और फिर गूगल पर कीवर्ड सर्च करने पर हमें द क्विंट का 22 जुलाई, 2017 का एक आर्टिकल मिला.

रिपोर्ट के मुताबिक ये तस्वीर कोलकाता में हुए शहीद दिवस रैली की है.

रिपोर्ट में बताया गया है, “कोलकाता में हर साल 21 जुलाई को शहीद दिवस रैली की जाती है. इसे 1993 में भारतीय युथ कांग्रेस के 13 सदस्य की मौत को याद करते हुए मनाया जाता है.”

“ममता बनर्जी ने 24 वर्ष पहले इसी दिन सचिवालय तक युथ कांग्रेस बंगाल की एक रैली निकाली थी जिसका मकसद वोटर कार्ड पर फ़ोटो लगवाना था ताकि चुनाव में धांधली न हो. लेकिन कोलकाता के एस्पलेनेड के पास सचिवालय पहुंचने से एक किलोमीटर पहले ही कोलकाता पुलिस ने रैली रोक दी और भीड़ पर गोलियां चला दीं.”

द क्विंट ने तस्वीर का क्रेडिट पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को दिया है.

ममता बनर्जी ने ट्विटर पर 21 जुलाई, 2017 को कुछ अन्य तस्वीरों के साथ ये तस्वीर भी शेयर की थी.

नीचे वायरल तस्वीर (बाएं) की द क्विंट की तस्वीर (दाएं) के साथ तुलना की गयी है:

वायरल तस्वीर (बाएं) की द क्विंट की तस्वीर (दाएं) के साथ तुलना ( AFP)

टीएमसी सांसद अभिषेक बनर्जी ने भी 21 जुलाई, 2017 को मौके की कुछ और तस्वीरें ट्वीट की थी जिसमें इसी तस्वीर का चौड़ा प्रारूप है. इस तस्वीर में सड़क के बगल में स्थित मस्जिद और कुछ अलग ढांचे भी देखे जा सकते हैं.

तस्वीर में दिख रहे निर्माण और ईमारत कुछ हद तक गूगल मैप्स के स्ट्रीट व्यू में भी नज़र आते हैं जिसे नीचे देख सकते हैं:

नीचे अभिषेक बनर्जी द्वारा शेयर की गयी तस्वीर (बाएं) और गूगल मैप्स के स्क्रीनशॉट (दाएं) के बीच तुलना में मिलते-जुलते निर्माण देखे जा सकते हैं:

ओरिजिनल तस्वीर (बाएं) और गूगल स्ट्रीट व्यू पर दिख रहे निर्माणों (दाएं) की तुलना ( AFP)