मुम्बई लोकल की भीड़ का पुराना वीडियो यूपी में प्रतियोगी परीक्षार्थियों से जोड़कर वायरल

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.

हाल ही में उत्तर प्रदेश में सरकारी नौकरियों के लिये आयोजित PET परीक्षा से जोड़कर भीड़भाड़ वाली ट्रेनों के पुराने वीडियो को सोशल मीडिया पोस्ट में शेयर किया जा रहा है. वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि ये भीड़ प्रतियोगी परीक्षार्थियों की है जिन्हें उचित सुविधा देने में सरकार नाकाम रही है. हालांकि अक्टूबर 2022 में ऐसी कई खबरें आईं जिनमें छात्रों को परीक्षा देने जाने में ट्रेनों में भीड़ और असुविधा का सामना करना पड़ा लेकिन ये वीडियो उन परीक्षाओं से पहले का है.

इस वीडियो को 15 अक्टूबर 2022 को फ़ेसबुक पर यहां शेयर किया गया.

वीडियो में एक रेलवे स्टेशन पर दो ट्रेनों को दिखाया गया है. लोगों की भारी भीड़ उन ट्रेनों में चढ़ने की कोशिश करती दिख रही है.

पोस्ट के कैप्शन में लिखा है: "आज UP PET की परीक्षा है. इस परीक्षा से ग्रुप-C के पदों पर भर्तियां होंगी. 37 लाख से अधिक कैंडिडेंट्स ने आवेदन दिया है. रेलवे स्टेशन पर छात्रों की भीड़ उमड़ी है. बहुत से छात्रों को 400 से 500 किलोमीटर दूर एजाम सेंटर मिला है.”

गलत दावे से शेयर की जी रही पोस्ट का स्क्रीनशॉट, 19 अक्टूबर 2022

इस वीडियो को उत्तर प्रदेश राज्य सरकार की नौकरियों के लिए 15 और 16 अक्टूबर को आयोजित की गई पात्रता परीक्षा के दौरान शेयर किया गया.

इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार ये परीक्षा पूरे उत्तर प्रदेश में 1,899 केंद्रों पर आयोजित की गई थी.

हालांकि सोशल मीडिया पोस्ट्स पर शेयर किया जा रहा ये वीडियो पुराना है और इसका हालिया प्रवेश परीक्षा से कोई संबंध नहीं है.

रेलवे प्लेटफॉर्म का वीडियो

हमने वीडियो के कीफ़्रेम को कुछ कीवर्ड्स के साथ गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च किया तो हमें अप्रैल 2022 में मुंबई शहर में लोकल ट्रेन के किराए के बारे में एनडीटीवी की एक विस्तृत रिपोर्ट मिली.

रिपोर्ट में इसी वीडियो से मिलती-जुलती एक स्टिल तस्वीर को "फ़ाइल" फ़ोटो के रूप में चिह्नित किया गया है. इसका मतलब ये है कि यह आर्टिकल प्रकाशित होने के समय की नई तस्वीर नहीं बल्कि सांकेतिक तौर पर रिपोर्ट में उपयोग की गयी एक तस्वीर है.

नीचे गलत दावे से शेयर की जा रही पोस्ट (बाएं) और एनडीटीवी के आर्टिकल में प्रयोग की गई तस्वीर (दाएं) के स्क्रीनशॉट्स के बीच तुलना है जिसमें कई समानतायें AFP द्वारा हाईलाईट की गई हैं.

आगे और कीवर्ड सर्च करने पर पता चला कि यही वीडियो 21 मार्च 2016 को नवीन पुजारी नामक यूज़र द्वारा यूट्यूब पर भी अपलोड किया गया था. इससे पता चलता है कि वायरल वीडियो को हालिया UPPET परीक्षा से कोई संबंध नहीं है

इसके कैप्शन में लिखा है "अमेजिंग मुंबई लोकल क्राउड", हालांकि इसमें उस स्टेशन की पहचान नहीं की गई है जहां वीडियो फ़िल्माया गया है.

अनुवाद और अनुकूलन: