यह वीडियो लीबिया में पकड़े गए रूसी हेलीकॉप्टर का है

कॉपीराइट AFP 2017-2022. सर्वाधिकार सुरक्षित.

फ़ेसबुक और ट्विटर पर हज़ारों बार देखें गए एक वीडियो में दावा किया गया कि तालिबान के लड़ाके कब्ज़े में लिए एक अमेरिकी हेलीकॉप्टर के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं. लेकिन यह दावा ग़लत है: यह वीडियो 2020 में लीबिया में पकड़े गए एक रूसी हेलीकाप्टर की है.

ये वीडियो फ़ेसबुक पर यहां 31 अगस्त, 2021 को शेयर किया गया. इसे 25,000 से ज़्यादा बार देखा जा चुका है.

इसके साथ कैप्शन है, “तालिबान के हाथ अमेरिका का खजाना लग गया है और तालिबानी उसका वही हाल कर रहे हैं जैसे बंदर के हाथ मलमल का कपड़ा आने पर होता है. ब्लैकहॉक और अपाचे जैसे महंगे हेलीकॉप्टर तालिबानियों के हाथ लग गए हैं और यह तालिबानी उन्हें सड़क पर दौड़ा कर मौज मस्ती कर रहे हैं. किसी साइट पर मैंने पढ़ा था की ब्लैक हॉक और अपाचे और F16 यानी दुनिया का की कोई कंपनी जो लड़ाकू हेलीकॉप्टर या लड़ाकू विमान बनाती है वह अपने मुख्यालय से भी उसे कंट्रोल कर सकती है या उसका सॉफ्टवेयर इस तरह से करप्ट कर सकती है कि वह बिल्कुल बर्बाद हो जाए. अगर यह सच है तो इसमें भी अमेरिका का कोई न कोई प्लान होगा.”

भ्रामक पोस्ट का स्क्रीनशॉट

वीडियो में सामने से एक वाहन द्वारा एक हेलीकॉप्टर को खींचकर ले जाते हुए दिखाया गया है. ये वीडियो हेलीकॉप्टर के पीछे कार में सवार किसी व्यक्ति द्वारा बनाया हुआ लगता है.

यह वीडियो इसी दावे के साथ फ़ेसबुक पर यहां, यहां और यहां शेयर किये जाने के बाद सैकड़ों बार देखा गया.

इसे यहां पाकिस्तान में एक ट्विटर पोस्ट में और यहां कोरियाई भाषा में फ़ेसबुक पर भी शेयर किया गया है.

लेकिन ये दावा ग़लत है.

यह वीडियो लीबिया में पकड़े गए एक रूसी हेलीकॉप्टर पर रिपोर्ट में प्रकाशित किया गया था.

इस वीडियो का रिवर्स इमेज सर्च और कीवर्ड सर्च करने पर रूसी न्यूज़ वेबसाइट Piter.TV की 5 जून, 2020 की एक रिपोर्ट मिली. ये रिपोर्ट लीबिया की तत्कालीन अंतरिम सरकार गवर्नमेंट ऑफ़ नेशनल अकॉर्ड (GNA) द्वारा Mi-35 हेलीकॉप्टर को ले जाये जाने पर है.

आर्टिकल में रूसी भाषा में हेडलाइन है, "लीबिया की सरकार ने फ़ील्ड मार्शल हफ़्तार के Mi-35 हेलीकॉप्टर पर कब्ज़ा कर लिया."

इस रिपोर्ट में लिखा है, “वीडियो में हेलीकॉप्टर को PNS (गवर्नमेंट ऑफ़ नेशनल अकॉर्ड) बलों द्वारा पकड़ा गया था.”

“लीबिया की सरकार ने फ़ील्ड मार्शल खलीफ़ा हफ़्तार का Mi-35 कब्ज़े में ले लिया. ये 4 जून की शाम को सैन्य मुखबिर टेलीग्राम चैनल के प्रवक्ता द्वारा बताया गया था. पत्रकारों से मिली जानकारी के अनुसार, लीबिया की नेशनल अकॉर्ड की सरकार ने लीबियन नेशनल आर्मी (LNA) की सेनाओं का हेलीकॉप्टर ज़ब्त कर लिया.”

“जानकारी मिली है कि हेलीकॉप्टर त्रिपोली हवाई अड्डे पर है. पूरी लीबियाई राजधानी की तरह ये जगह भी PNS के नियंत्रण में थी.”

Mi-35 हेलीकॉप्टर रूस में बनाये जाते हैं.

नीचे भ्रामक पोस्ट में वीडियो (बाएं) और Piter.TV की रिपोर्ट में वीडियो (दाएं) के बीच समानताएं देखी जा सकती है:

भ्रामक पोस्ट (बाएं) और Piter.TV की रिपोर्ट में वीडियो (दाएं) का तुलना

वियतनामी ऑनलाइन न्यूज़ साइट Dat Viet ने भी 5 जून , 2020 को GNA का Mi-35 हेलीकाप्टरो को कब्ज़ा करने के बारे में एक रिपोर्ट पब्लिश किया था. इस रिपोर्ट में वीडियो में दिख रहे हेलिकॉप्टर से मेल खाने वाले हेलिकॉप्टर की तस्वीर भी छापी गयी थी.

वियतनामी भाषा की रिपोर्ट की हेडलाइन है, "लीबिया की गवर्नमेंट ऑफ़ नेशनल अकॉर्ड (GNA) ने दर्जनों टैंकों और Mi-35 हेलीकॉप्टरों पर कब्ज़ा कर लिया.”

फ़ोटो के कैप्शन में लिखा है, "GNA द्वारा लीबियन नेशनल आर्मी (LNA) का Mi-35 हेलीकॉप्टर कब्ज़ा करके सड़कों पर प्रदर्शन किया जा रहा है."

वियतनामी न्यूज़ साइट Dat Viet द्वारा पब्लिश्ड हेलीकॉप्टर की तस्वीर

AFP ने पहले भी एक वीडियो का फ़ैक्ट-चेक किया था जिसमें हेलीकॉप्टर से लटके आदमी को तालिबान द्वारा मारे जाने का दावा किया गया था.

( Grégoire LEMARCHAND)
अफ़ग़ानिस्तान